राजस्थान

भीलवाड़ा में बंद पड़े उद्योग धंधे शुरू होगा काम, श्रमिकों को मिलेगा 4000 रुपए भत्ता पढ़े पुरी खबर…

आर्यव्रत न्यूज़,भीलवाड़ा :- लॉकडाउन (Lockdown) के कारण बंद उद्योग धंधों को पुनः प्रारंभ करने के केंद्र एवं राज्य सरकार के निर्देश के बावजूद, भीलवाड़ा में अब तक प्रारंभ नहीं हो पाए उद्योग धंधे शीघ्र ही शुरू होंगे. बुधवार को जिला कलेक्टर राजेन्द्र भट्ट की पहल पर औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों, श्रमसंघों के प्रतिनिधियों एवं ठेकेदारों की बैठक में सर्वसम्मति से उद्योग धंधों में काम प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है. बैठक में श्रमिकों को तयशुदा राशि का भुगतान करने का भी निश्चय हुआ है.

जिला कलेक्टर भट्ट ने कहा कि, सरकार द्वारा उद्योग धंधों को प्रारंभ करने के निर्देश तथा भीलवाड़ा में कर्फ्यू (Curfew) समाप्ति के बाद, जिला प्रशासन द्वारा स्वीकृति प्रदान करने के बावजूद, कुछ बातों पर औद्योगिक संगठनों एवं श्रम संगठनों के बीच असहमति एवं गतिरोध के कारण उद्योग प्रारंभ नहीं हो पाए थे.

डीएम भट्ट ने कहा कि, स्थिति की गंभीरता को देखते हुए, औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों, श्रम संगठनों के प्रतिनिधियों तथा श्रमिक ठेकेदारों को एक मंच पर बैठाकर कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार शाम बैठक आयोजित की गई. पहले दोनों पक्षों से प्रशासनिक अधिकारियों ने अलग-अलग वार्ता की.

इसके बाद, उन्हें साथ बैठाकर सभी बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की गई. इस बैठक में तय किया गया कि, उन श्रमिकों को जिन्होंने मार्च महीने में 20 दिन पूरा काम किया होगा, उन्हें 29 दिन का पूरा भुगतान किया जाएगा तथा जिन्होंने 20 दिन से कम काम किया होगा उन्हें 26 दिन का वेतन भुगतान किया जाएगा.

इसी तरह, अप्रैल एवं मई महीने में अब तक के लिए श्रमिकों को निर्वाह भत्ता के रुप में 4000 रुपए का भुगतान किया जाएगा, जिसमें 2 हजार 600 रुपए अप्रैल महीने के लिए तथा एक हजार चार सौ रुपए मई महीने के लिए भुगतान किया जाएगा. साथ ही, उद्योग धंधों को शीघ्र ही प्रारंभ किया जाएगा.

डीएम ने कहा कि, उद्योग प्रारंभ होने के बाद, उत्पादन के आधार पर श्रमिकों को भुगतान किया जाएगा. यदि उद्योग एक पारी, दो पारी अथवा तीन पारी में जैसे भी संचालित होते हैं, उस आधार पर श्रमिक ठेकेदारों को भुगतान होगा. जिला कलेक्टर भट्ट ने बैठक में कहा कि, सभी लोगों ने आपसी सहमति से ही निर्णय किए हैं तथा भीलवाड़ा में शीघ्र ही सभी उद्योग प्रारंभ होकर गति प्राप्त कर सकेंगे.

वहीं, लेबर एसोसिएशन के अध्यक्ष पन्नालाल चैधरी ने कहा कि, बैठक में लिए गए निर्णय से वह सहमत हैं. उद्योग प्रारंभ होने से श्रमिकों को पुनः रोजगार मिल सकेगा. लॉकडाउन पीरियड का पैसा उन्हें मिलने से उनकी आर्थिक स्थिति डगमगाने से रोकने में मदद मिलेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat
Close