जयपुरराजस्थान

जयपुर में पाकिस्तानी दुश्मनों ने किया हमला, भारी नुकसान की आशंका पढ़े पुरी खबर…

आर्यव्रत न्यूज़,जयपुर :- राजस्थान बॉर्डर से सटे जिलों में तबाही मचाने के बाद पाकिस्तान से आई टिडि्डयों ने सोमवार को राजधानी जयपुर में हमला बोल दिया. बीती रात विद्याधर नगर में प्रवेश के बाद सोमवार सुबह टिड्डी दल पूरे शहर के आसमान पर छा गया. हालत यह रही कि टिड्डी दल सिविल लाइंस तक पहुंच गया और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मंत्रियों के आवासों पर काफी देर मंडराता रहा. इधर, सुबह कृषि मंत्री लालचंद कटारिया टिड्डी दल के हमले से हुए नुकसान का जायजा लेने किसानों के पास पहुंचे,

फसलों और वनस्पतियों की दुश्मन टिडि्डयां राजस्थान में तबाही मचा रही है, खेतों में खड़ी फसल के अलावा पेड़-पौधों को भी चट कर रही है. रविवार तक टिडि्डयां जयपुर जिले के गांवों-दौसा में थी. वहीं, देर रात विद्याधर नगर में धावा बोला. इसके बाद सोमवार सुबह टिडि्डयों के दल ने शास्त्री नगर से चार दीवारी, चौड़ा रास्ता, बड़ी चौपड़, राजापार्क, जवाहर नगर के बाद स्कीम तक उड़ान भरी. हालत यह हो गई कि आसमान में टिडि्डयां चादर के समान दिखाई पड़ रही थी. टिडि्डयां रास्ते में पेड़-पौधे या अन्य जगह जहां भी बैठ कर नुकसान करती रही. इसके बाद टिड्डी दल ने लगभग पूरे शहर का चक्कर लगाया. इधर, लोग आसमान पर अचानक इतनी तादाद में टिडि्डयां देखकर एकबारगी घबरा गए. कौतुहल से भरे लोग घरों से बाहर निकल आए और अपने अपने हिसाब से टिडि्डयों को भगाने का प्रयास करने लगे. राजापार्क में लोगों ने पटाखे फोड़कर टिडि्डयों को भगाने का प्रयास किया. वहीं, सी स्कीम में लोगों ने थाली बर्तन बजाकर भगाया.

किसानों के बीच पहुंचे कृषि मंत्री कटारिया
हरमाड़ा क्षेत्र स्थित सरना डूंगर क्षेत्र में रविवार शाम से लगातार टिड्डी दल का हमला जारी रहा. इस बीच सोमवार सवेरे कृषि मंत्री लाल चंद कटारिया कार्यकर्ताओं के साथ सरना डूंगर क्षेत्र के आसपास गावों में पहुंचे. कटारिया ने ग्रामीणों का गुस्सा शांत करने के लिए मौके पर कैमिकल डला पानी मंगाया और दमकल की मदद से खेतों पर स्प्रे कराया. दस से पंद्रह मिनट के लिए तो टिडि‌डयों  ने फसलों को छोड़ दिया लेकिन उसके बाद फिर से फसलों पर हमला कर दिया. ग्रामीण कुछ नहीं कर सके. किसानों का कहना था कि कैमिकल मिला पानी फसलों को नष्ट कर रहा है लेकिन इन टिड्डियों का कुछ नहीं बिगाड़ पा रहा है.

सालों बाद हुआ है राजधानी पर हमला
​बता दें कि, राजधानी में करीब पच्चीस साल के बाद इतनी बड़ी संख्या में टिड्डी दल ने हमला किया है. तीन से चार साल के दौरान कई बार टिड्डयां गर्मियों के समय दिखती रही हैं लेकिन इतनी बड़ी संख्या में करीब पच्चीस साल के बाद हमला हुआ है. जयपुर में टिड्डियों की मॉनीटरिंग कर रहे कृषि अफसरों का कहना है कि शनिवार को टिड्‌डी दल जयपुर के किशनगढ़-रेनवाल से आमेर व नायला होते हुए दौसा तक पहुंच गए थे. उम्मीद थी कि जयपुर में बस इतना ही पड़ाव होगा. लेकिन आज (सोमवार) सवेरे तो यह शहर तक आ पहुंचे.  यह सब हवा के रुख के कारण होना बताया जा रहा है. टिड्डियों के हमले से सब्जी की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है. हालांकि, जयपुर को लेकर ​कृषि विभाग का दावा भी है कि पांच सौ से भी ज्यादा हैक्टेयर फसलों पर कीटनाशकों का​ छिड़काव ​कराया गया है जिससे नुकसान कम होने की संभावना है.

विशेष गिरदावरी की मांग
प्रदेश में तेजी से बढ़ते जा रहे टिड्डी अटैक के कारण प्रशासिनक तंत्र भी हिल गया है. टिड्डी दल से फसलों में हुए नुकसान की विशेष गिरदावरी मांग की जा रही है. जिला कलेक्टर्स ने विशेष गिरदावरी  की अनुमति मांगी है. इधर, कलक्टर अपने-अपने क्षेत्र में नुकसान की रिपोर्ट बनाने में जुट गए हैं. राज्य सरकार ने 31 मई तक नुकसान के रिपोर्ट मांगी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat
Close